Author : Piush

social (सामाजिक)

धर्म के पार

Piush
किसी के अभिव्यक्ति के अधिकार पर चोट करना, मासूम बच्चों का कत्लेआम करना, लोगों को आस्था के नाम पर गुमराह करना और जबरन किसी पर
literature and film

तुम्हारे लिए

Piush
आज तुम्हारे लिए लिख रहा हूँ, बस तुम्हारे लिए। प्यार के लिए, तुम्हारे इकरार के लिए, जगती रातों के लिए, मखमली बातों के लिए, अनकहे
DPILLAR