क्या अखबार इतना भी गिर सकता है ! #SSCscam

#SSCscam आज की ख़बर

The darkest places in hell are reserved for those who maintain their neutrality in times of moral crisis.  

                                 – #DanteAlighieri in #TheDivineComedy

“नर्क के सबसे तकलीफ़देह दरवाजे सिर्फ उन्ही लोगों के लिए खोले जाते हैं जो नैतिक संकट के दौर में भी तटस्थ रहते हैं.” – दांते

Team dPILLARदेश भर के युवाओं ने नौकरी की मांग के लिए बिना किसी नेतृत्व के  SSC के खिलाफ जिस आंदोलन को छेड़ा है, उसे अखबारों और दूसरे मीडिया माध्यमों में जगह नहीं मिल रही है. उदाहरण आप देख सकते हैं आज देश भर में छपे तमाम अखबारों में. पर यकीन मानिए! दैनिक जागरण के पटना संस्करण को देखने के बाद आपका अखबारों से भरोसा उठ जाएगा.

#SSCscam की निष्पक्ष जांच की  मांग पर अड़े सैकड़ों छात्र जब ऐतिहासिक गांधी मैदान में लगी गांधी मूर्ति के चबुतरे पर बैठे भूख हड़ताल कर रहे थे, तब दैनिक जागरण अखबार उसी चबुतरे के दूसरे किनारे पर डीजे की धुन पर महिलाओं का सम्मान कर रहा था. छात्रों ने जब संपादक और अखबार प्रबंधन से आंदोलन में बाधा पड़ने का हवाला देते हुए कार्यक्रम दूसरी ओर करा लेने की मांग की तो अखबार वाले प्रेस और मीडिया का धौंस जमाने लगे. छात्रों को झुकना पड़ा. आंदोलन थोड़ी देर के लिए बाधित भी हो गया.

मगर इससे भी शर्मनाक बात ये है  कि दैनिक जागरण अखबार प्रबंधन अपने संपादक के साथ छात्रों को भूख हड़ताल पर बैठे देख कर भी अपने अखबार में एक खबर तक प्रकाशित नहीं की. आंदोलनकारी छात्रों की एक अदद तस्वीर भी अखबार में नहीं छपी जिससे कि वे अपने दूसरे साथियों को आदोलन के लिए अपील कर पाएं.

SSCSCAM से संबंधित एक मात्र खबर जो दैनिक जागरण के पटना संस्करण में छपी है-

 

अब देख लीजिए दैनिक जागरण की वो खबर जो छात्रों के आंदोलन स्थल पर आयोजित कार्यक्रम को लेकर है-

एक ओर जहां देश भर के युवा नौकरी के लिए सड़कों पर उतरे दिखाई दे रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उन युवाओ के प्रदर्शन के बगल में ही महिलाओं के उत्थान और सम्मान पर दुनिया के सबसे अधिक प्रसार वाले अखबार का कार्यक्रम आयोजित हो रहा है.

केवल कार्यक्रम ही नहीं हो रहा है, साउंड और लाइट का सिस्टम देखकर ऐसा लग रहा है मानो आगे एक समारोह की तैयारी है. मतलब कि ऐतिहासिक गांधी मैदान में लगी राष्ट्रपिता गांधी की मूर्ति के एक बगल में उन्हीं महिलाओं का सम्मान किया जा रहा है जिनकी बहनें और बेटियां सरकार से नौकरी की मांग पर भूख हड़ताल पर बैठी हैं.

सरकार से नौकरी की मांग पर आंदोलन कर रहे देश भर के युवा पिछले डेढ़ हफ्ते से सड़कों पर हैं. नई दिल्ली के लोधी रोड स्थित CGA कॉम्प्लेक्स के बाहर धरना पर बैठे छात्रों ने प्रेस कान्फ्रेंस कर प्रिंट मीडिया पर सरकार और SSC का पक्ष लेने का आरोप लगाते हुए कहा था कि, “अखबारों में खबरें छपी हैं कि SSC और सरकार ने एसएससी की परीक्षाओं में धांधली की जांच के लिए CBI जांच की हमारी मांग मान ली है.

जबकि अभी तक ना तो सरकार की ओर से और ना ही SSC की ओर से CBI जांच के लिए कोई आदेश जारी हुआ है”.

यह भी पढ़ें-

पटना में पेपरलीक, देश भर में छात्र आंदोलन, फिर भी क्यों जारी है परीक्षाएं ?

चेयरमैन खुराना से मिलने गए सैकड़ों छात्रों को कैरियर तबाह करने की धमकी

बेटे की नौकरी की उम्मीद मत कर ए दुखियारी मां

 

DPILLAR